मंत्री  काम करने  के लिए बना,  इस्तीफा  देने के लिए नहीं  –उद्योग मंत्री लखमा 

राजेंद्र तिवारी
 जगदलपुर  ;  20 जून  ;अभी तक;  प्रदेश के उद्योग मंत्री कावासी लखमा ने कहा है कि वह वे बैलाडीला क्षेत्र में अदानी औद्योगिक समूह को लौह अयस्क उत्खनन के लिए  दी गई  अनुमति के मुद्दे पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी द्वारा इस्तीफा मांगे जाने को मात्र राजनैतिक  नौटंकी मानते हैं । उन्होंने यह भी कहा कि वह काम करने के लिए मंत्री बने हैं न कि इस्तीफा देने के लिए।
                 श्री लखमा आज सुबह स्थानीय सर्किट हाउस में आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे । पत्रकारों के सवालों का उत्तर देते हुए उन्होंने कहा कि नई उद्योग नीति अक्टूबर माह में लागू की जाएगी। उद्योग नीति के सिलसिले में वे आंध्र प्रदेश ,तेलंगाना तथा गुजरात के दौरे पर भी जाने वाले हैं ।उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की सरकार अच्छा कार्य कर रही है विशेष रूप से आदिवासियों के हित में कई क्रांतिकारी कदम उठाए गए हैं ।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्णयों के कारण पहली बार  आदिवासियों को 9000 करोड़ रुपए का तेंदूपत्ता पारिश्रमिक प्राप्त हुआ है ।हमारी सरकार लगातार कोशिश कर रही है कि स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसरों में वृद्धि हो ।एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि राज्य की बिजली व्यवस्था सुधारने के उपाय किए जा रहे हैं ।इसी प्रकार नक्सली समस्या के निदान के लिए भी सरकार कोशिश कर रही है ।
                  उन्होंने स्पष्ट किया कि इसी उद्देश्य से पिछले दिनों मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने स्वयं बस्तर का दौरा कर लोगों की राय जानी थी।  उन्होंने कांग्रेस पार्टी के एक नेता कोको पाढी और उनके सुपुत्र के बीच कथित वायरल संवाद के बारे में कहा कि पार्टी से ऊपर कोई नहीं होता है ।इसलिए पूरे मामले की जांच के बाद संबंधित व्यक्तियों के विरुद्ध पार्टी कार्यवाही कर सकती है ।
              अपने कनाडा प्रवास के संबंध में उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार और कनाडा सरकार के बीच एक अनुबंध किया गया है। इस अनुबंध के तहत छत्तीसगढ़ के लोगों को कनाडा में औद्योगिक प्रशिक्षण दिलाने के साथ-साथ उद्योग संबंधी तकनीक भी उपलब्ध कराई जा सकेगी। बस्तर से एक और मंत्री बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार होता है इसलिए वह इस मुद्दे पर कुछ भी कहना नहीं चाहेंगे ।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *