मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया ट्वीट, प्रशासन पहुंचा सुमरीबाई के यहाँ, कराया हैंडपंप

2:46 pm or June 14, 2019
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया ट्वीट, प्रशासन पहुंचा सुमरीबाई के यहाँ, कराया हैंडपंप

आशुतोष पुरोहित

खरगोन १४ जून ;अभी तक;  खरगोन जिले दूरस्थ पहाडी इलाके झिरन्या क्षेत्र के चित्तौढगढ भुसावल मार्ग पर पलोना गांव में हनुमान मंदिर के पास नलकूप खनन की मांग करने वाली सुमरीबाई को मुख्यमंत्री कमलनाथ के ट्वीट के बाद नलकूप की सौगात मिली। मंदिर में आने वाले श्रदालुओ के लिये भीषण गर्मी मे करीब डेढ किलोमीटर दूर से सुमरीबाई को पानी लाना पढता था। 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला सुरमीबाई ने मीडिया के माध्यम से पानी संकट होने की गुहार लगाई थी।

 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया ट्वीट, प्रशासन पहुंचा सुमरीबाई के यहाँ, कराया हैंडपंप

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया ट्वीट, प्रशासन पहुंचा सुमरीबाई के यहाँ, कराया हैंडपंप

सीएम कमलनाथ के ट्वीट के बाद आज प्रशासन सुरमीबाई के घर के पहुंच गया। सीएम कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए सुरमीबाई के  घर के आसपास हेण्डपम्प खनन करने की बात कही थी। आज  बोरिंग मशीन के साथ कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड और विधायक श्रीमति झूमा सोलंकी पलोना गांव पहुंचे। इस दौरान सुरमी बाई का माला पहना कर स्वागत किया और मुँह मीठा कराया। साथ ही सुरमीबाई स्वयं ने विधायक झूमा सोलंकी के साथ खनन के लिए जलदेव की पूजा की। सीएम के ट्वीट के बाद आवास सहित शासन की कई योजना का लाभ दिलाने की कलेक्टर डाड ने घोषण की है। सीएम के ट्वीट के बाद प्रशासन ने जहाँ सुरमीबाई के यहाँ नलकूप खनन कराया बल्कि पानी के आने की खुशी उत्सव की तरह मनाई गई। अब सुरमीबाई सीएम कमलनाथ का आभार मान रही है।

               सुरमीबाई के अलावा फाल्ये के और भी लोग पेयजल के लिए डेढ़ किमी से पानी लाने से बच जाएंगे। 65 वर्षीय सुरमीबाई अपने परिवार व अपने आंगन में हनुमान जी के मंदिर के दर्शन के लिए रोज करीब 50 वाहन रूकते है। इसके लिए सुरमीबाई पेयजल की व्यवस्था करती रही है। मीडिया मे खबर आने के बाद  प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा था “सुरमीबाई को पानी के लिए डेढ़ किमी नहीं जाना पड़ेगा। सरकार अपनी ओर से यहां हैंडपंप करवाएगी।“ शुक्रवार को लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग अपने अमले के साथ हैंडपंप खनन के लिए पहुंचकर सारी तैयारियां कर ली। इसके बाद कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड और क्षेत्रीय विधायक श्रीमती झूमा सोलंकी पहुंचे और सुरमीबाई से भी मिले। सुरमीबाई ने खुशी का इजहार करते हुए न सिर्फ मुख्यमंत्री कमलनाथ को धन्यवाद दिया, बल्कि प्रशासन और विधायिका को भी धन्यवाद दिया। सुरमीबाई कहती है कि “आखिरकार हनुमान जी ने सुन ही ली और आज हैंडपंप का काम भी शुरू हो गया।“

सुरमीबाई के आंगन में छाया उत्सव

सुरमीबाई के घर जैसे ही बोरिंग मशीन पहुंची, तो सभी खुश होकर एक-दूसरे को बधाईयां देते हुए बुलाने लगे। गांव के पटेल और फाल्ये के अन्य लोगों को भी इस बात का ऐहसास हुआ तो वह भी ढ़ोल व मांदल लेकर सुरमीबाई के घर पहुंच गए। जैसे ही विधायिका श्रीमती सोलंकी ने सुरमीबाई को माला पहनाकर मुंह मीठा करवाया, तो फाल्ये के लोग मांदल पर नाचने लगे। विधायिका श्रीमती सोलंकी ने इस अवसर पर कहा कि अब सुरमीबाई जैसी अन्य महिलाओं को भी पानी के लिए कहीं भटकना नहीं पड़ेगा। सरकार तक बात पहुंची, तो सरकार ने सक्रियता दिखाते हुए हैंडपंप खनन के आदेश कर दिए। इस दौरान जनपद उपाध्यक्ष श्री घनश्याम राठौर, पुलिस अधीक्षक श्री सुनिल पांडेय, एसडीएम श्री त्रिलोचन गौड़, जनपद सीईओ श्री महेंद्र श्रीवास्तव, पीएचई कार्यपालन यंत्री श्री श्रीवास्तव उपस्थित रहे।

सुरमीबाई को मिलेगा पक्का मकान

कलेक्टर श्री डाड ने जनपद पंचायत सीईओ श्री श्रीवास्तव को निर्देश दिए कि सुरमीबाई को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत राशि स्वीकृत कराई जाए, ताकि उनका भी पक्का मकान बन सके। इस पर सीईओ ने कहा कि जल्द ही सुरमीबाई को राशि स्वीकृत हो जाएगी और उनका भी पक्का मकान बन जाएगा।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *