मतदान के दिन शुरू का आधा घंटा अतिमहत्वपूर्ण-श्री डाड

 

आशुतोष पुरोहित

खरगोन १५ अप्रैल ;अभी तक;  लोकसभा निर्वाचन 2019 के मद्देनजर सोमवार से मतदान दलों के प्रथम चरण का प्रशिक्षण शासकीय उमावि क्र.1 खरगोन में प्रारंभ हुआ। मतदान दलों में शामिल होने वाले पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी व सेक्टर अधिकारियों को विशेष तैयारियों के बाद पहला प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया। सहायक आयुक्त श्री जेएस डामारे ने बताया कि इस बार मतदान के लिए पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी और सेक्टर अधिकारियों को विशेष तरह से तैयार किया जा रहा है, जिससे मतदान केंद्र में होने वाली गलतियों को दूर किया जा सके। जिला शिक्षा अधिकारी श्री केके डोंगरे ने बताया कि शासकीय कन्या उमावि के 20 कक्षों में 54मास्टर ट्रेनरों द्वारा प्रशिक्षित किया जा रहा है। यह प्रशिक्षण जिला निर्वाचन अधिकारी के विशेष निर्देशों पर हर कक्षों में प्रोजेक्टर के माध्यम से आयोग द्वारा तैयार किए गए पीपीटी, वीडियों, फोटो व अन्य निर्देशों पर दिया जा रहा है। खरगोन विधानसभा में सोमवार को हुए प्रशिक्षण में 572पीठासीन अधिकारी, 398मतदान अधिकारी और 31 सेक्टर अधिकारी ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।16 अप्रैल को कसरावद विधानसभा में प्रशिक्षण आयोजित होगा।

नई व्यवस्था का पीठासीन अधिकारियों ने किया स्वागत

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री गोपालचंद्र डाड द्वारा लोकसभा निर्वाचन 2019 में एक अलग तरह की व्यवस्था प्रारंभ की जाएगी। प्रशिक्षण के दौरान श्री डाड ने पीठासीन अधिकारियों से इस व्यवस्था पर चर्चा की गई। यह जानकर पीठासीन अधिकारियों ने इस व्यवस्था का स्वागत करते हुए कहा कि मतदान के दिन उन पर काफी दबाव होता है। इसलिए कई कार्य उन्हें आते हुए भूल जाते है। कलेक्टर श्री डाड ने नई व्यवस्था में सीआरसी, मतदान पर्चियां, टोटल बटन और क्लोज बटन दबाने के लिए बीएलओ को भी जिम्मेदारी सौंपी गई है, जिससे पूर्व में की गई गलतियां दूर की जा सकेगी। श्री डाड ने कहा कि मॉकपाल के समय बीएलओ मतदान केंद्र में उपस्थित रहेंगे, जो सीआरसी सहित अन्य तीन बिंदुओं पर पीठासीन अधिकारी को बार-बार याद दिलाएगा, जो निर्वाचन का महत्वपूर्ण कार्य है।

पर्चियों का मिलान सीयू से करे

प्रशिक्षण के दौरान कलेक्टर श्री डाड ने प्रशिणार्थियों से कहा कि मतदान के दिन शुरूआत का आधा घंटा अतिमहत्वपूर्ण है। क्योंकि इस दौरान मॉकपाल, सीआरसी, टोटल बटन और विभिन्न फार्म व लिफाफे तैयार करना होते है। साथ ही मॉकपाल के पश्चात वीवीपेट के ड्रॉप बाक्स में गिरी पर्चियों का मिलान सीयू से कर एजेंट को जरूर दिखाएं। मतदान के दिन शुरूआत में मॉकपाल के पश्चात सीआरसी कर पर्चियां निकालकर काले लिफाफे में भरने के पश्चात टोटल बटन दबाने के बाद वास्तविक मतदान प्रारंभ करना होता है। पीठासीन अधिकारियों से श्री डाड ने कहा कि आप सभी को प्रमाण पत्र भी देने है, जो मतदान प्रक्रिया से संबंधित है।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *