दशपुर योग शिक्षा संस्थान ने निःशुल्क जलनेति क्रिया शिविर आयोजित किया

12:15 pm or March 17, 2019
दशपुर योग शिक्षा संस्थान ने निःशुल्क जलनेति क्रिया शिविर आयोजित किया
महावीर अग्रवाल
 मंदसौर १७ मार्च ;अभी तक ;  दशपुर योग शिक्षा संस्थान द्वारा योग भवन पर निःशुल्क सामूहिक जलनेति-रबर नेति व कुंजल क्रिया शिविर रविवार की प्रातः आयोजित किया गया। शिविर में योग गुरू सुरेन्द्र जैन ने जल नेती, रबर नेती व कुंजल क्रिया सिखाई तथा इसके लाभ बताये। जिसका बड़ी संख्या में नागरिकों ने लाभ लिया।
दशपुर योग शिक्षा संस्थान ने निःशुल्क जलनेति क्रिया शिविर आयोजित किया

दशपुर योग शिक्षा संस्थान ने निःशुल्क जलनेति क्रिया शिविर आयोजित किया

योग गुरू श्री जैन ने शुद्धिकरण क्रियाओं के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि योग में कई क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। जिसमें नेती क्रियाओं का मुख्य कार्य श्वसन स्थान के अवयवों को शुद्ध करना होता है। श्री जैन ने बताया कि ये क्रियाये नाक की नली को साफ के साथ ही कंठ के अंदर की गंदगी को भी दूर करती है। इससे जुकाम, नजला, सिरदर्द, अस्थमा, एलर्जी, ब्लड प्रेशर आदि रोग दूर होते हैं। वहीं आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। कुंजल क्रिया अमाशय व पेेट का मल व रोगाणु बाहर निकलते है।

                संस्था सचिव जितेश फरक्या ने बताया कि संस्थान द्वारा प्रतिवर्ष यह शिविर आयोजित किया जाता है। मौसम बदलने पर अक्सर नाक बंद होने,  छींक आने, आंखों में खुजली  आदि महसूस होने व कंजेक्स्शन की समस्या होती है, नेती क्रियाओं से इन समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। शुद्धिकरण के लिये आयोजित शिविर में ओम अग्रवाल, बीना गर्ग, विक्की बारभाया, राजकुमार अग्रवाल, जिनेन्द्र उकावत, अरूण अग्रवाल, धर्मदास संगतानी, मनोज खत्री, रंजना चौधरी, ज्योति चौरड़िया आदि ने नेती क्रियाओं को करने में सहायता प्रदान की।
                 प्रातः करीब 7 बजे शिविर का शुभारंभ ‘‘ऊँ’’ की ध्वनि एवं गायत्री मंत्र के साथ हुआ। शिविर में राजेन्द्र चाष्टा, प्रमेन्द्र चौरड़िया, जापानी भावनानी, कैलाश रिछावरा, महेश सेठिया, विजय पलोड़, शंभुसेन राठौर, सोनल जैन, चंदा चाष्टा, कविता मिण्डा, अरूणा व्यास, अनिल मंदसौर वाला, सुभाष पाटीदार, सुषमा पारिख, सारिका लढ्ढा, वंदना सोमानी, नीलम जैसवानी, अरूण मुरड़िया, पंकज अग्रवाल, सुरेश जैन, सतीश खिंची, राजेश व्यास, विकास अग्रवाल, महेश राठौर, भावना जैन, गरिमा रिझवानी, रिद्दी होतवानी, गिरवरलाल माली  सहित बड़ी संख्या में योग साधक उपस्थित थे। अंत में आभार जितेश फरक्या ने माना।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *