पटवारी आती नहीं, कम मिलता है राशन और बन रही है घटिया सड़क

4:09 pm or March 14, 2019
पटवारी आती नहीं, कम मिलता है राशन और बन रही है घटिया सड़क

 

मोहम्मद सईद

शहडोल  14 मार्च। अभीतक ; नवागत कमिष्नर शोभित जैन ने पद्भार सम्हालने के बाद जब जिले के कंचनपुर गांव में पहुंचकर ग्रामीणों से चर्चा की तो ग्रामीणों ने दो टूक बताया कि उनके ग्राम पंचायत में पदस्थ महिला पटवारी कभी कभार ही गांव में आती है और लोगों के काम भी नहीं करती हैं इसलिए उक्त पटवारी को हटाया जाये। ग्रामीणों ने कमिश्नर श्री जैन को यह भी बताया कि ग्राम पंचायत कंचनपुर में संचालित राशन दुकान सेल्समैन द्वारा बैगा आदिवासियों को 30 किलो राशन दिया जाता है। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि उक्त सेल्समैन किसी-किसी को तो सिर्फ 24 किलो ही राशन देता है। इतना ही नहीं नमक के लिए भी ग्रामीणों से 5 से 10 रूपये लिया जा रहा है। ग्रामीणों की शिकायत पर कमिष्नर ने संबंधित कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही करने का आश्वासन दिया गया। कंचनपुर के भ्रमण के दौरान कमिष्नर ने गांव की प्रसूता महिलाओं के पासबुक एवं अन्य दस्तावेजों की जांच की तो पता चला कि प्रसूता महिलाओं के बैंक खाते में दी गई राशि का विवरण नहीं है, जिस पर कमिष्नर ने मौके पर उपस्थित सीएमएचओ डाॅ. राजेश पांडेय को तलब किया और उनकी क्लास ली।
                      आदिवासी बस्ती विकास योजना के अन्तर्गत गांव में निर्मित सीसी रोड में पटरी नहीं भराई जाने पर कमिश्नर ने नाराजगी व्यक्त की। ग्रामीणों ने कमिष्नर को बताया कि गांव में खनिज मद से बनी सड़क घटिया स्तर की है, सड़क के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गई है, जिस पर कमिष्नर ने खनिज मद से बनी रोड को रिजेक्ट करने के निर्देश दिये। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि स्कूल का भवन पिछले 10 वर्षों से अधूरा पड़ा है, स्कूल नहीं बनने के कारण गांव के बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

सुना दिया रटा-रटाया जवाब

                    कमिष्नर श्री जैन ने ग्राम पंचायत विचारपुर में स्थित एकलव्य एवं गुरूकुलम स्कूल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कमिष्नर ने कक्षा 12वीं, 6वीं एवं 7वीं के विद्यार्थियों से चर्चा की। कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों से चर्चा के दौरान कमिष्नर शहडोल संभाग ने साईंस विषय के छात्रों से मलेरिया रोग के संबंध में प्रष्न किये, प्रष्न का उत्तर छात्र-छात्राओं द्वारा रटे रटाये अंदाज में देने पर कमिष्नर ने कहा कि छात्र-छात्राओं का शैक्षणिक स्तर अच्छा होना चाहिये। कक्षा 12वीं की वाणिज्य संकाय के निरीक्षण के दौरान कमिष्नर ने छात्र-छात्राओं से ट्रेजरी बिल व्हाउचर के संबंध में प्रष्न किये लेकिन वे प्रश्न का समुचित उत्तर नहीं दे पाए। कमिश्नर ने कक्षा 7वीं के छात्र-छात्राओं से इनफिनिटी की स्पेलिंग पूछी किन्तु किसी छात्र ने इनफिनिटी की स्पेलिंग नहीं बताई।

शिक्षक भी नहीं बता पाए अर्थ

                   कमिष्नर ने छात्र-छात्राओं से ब्यूटी पोयम का अर्थ बताने को कहा किन्तु छात्र-छात्राएं ब्यूटी पोयम का अर्थ नहीं बता पाई। इस पर कमिष्नर ने अंग्रेजी के शिक्षक से ब्यूटी पोयम का अर्थ पूछा किन्तु शिक्षक द्वारा भी ब्यूटी पोयम का आधा अधूरा अर्थ समझाया गया, जिस पर कमिष्नर ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा मौके पर उपस्थित उपायुक्त जनजातीय कार्य विभाग को निर्देश दिये कि वे गुरूकुलम और एकलव्य स्कूल में अच्छे षिक्षकों को आमंत्रित कर छात्र-छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलायें। कमिष्नर ने इस दौरान क्रय रजिस्टर का भी अवलोकन किया तथा एक ही फर्म से खरीदी करने पर नाराजगी व्यक्त की।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *