ज्योति के खिलाफ कार्यवाही में मार्गदर्शन का फंसा पेंच, कलेक्टर ने पीएस संसदीय कार्य विभाग को भेजी रिपोर्ट

मयंक भार्गव
 बैतूल १२ फरवरी ;अभी तक;  उच्चस्तरीय छानबीन समिति द्वारा सांसद श्रीमति ज्योति धुर्वे के संदिग्ध जाति प्रमाण पत्र मामले मे दिये गये निर्णय पर जिला प्रशासन ने त्वरित कार्यवाही शुरू कर दी है। हाईपावर कमेटी द्वारा दिये गये निर्णय के परिपालन में भैंसदेही एसडीएम राकेश मरकाम ने श्रीमति सांसद ज्योति धुर्वे के गोंड अनुसूचित जनजाति के जाति प्रमाण पत्र को निरस्त कर प्रकरण अग्रिम कार्यवाहीं के लिए भेजा गया था। इधर कलेक्टर तरूण कुमार पिथौड़े ने भैंसदेही एसडीएम द्वारा सांसद श्रीमति धुर्वे के जाति प्रमाण पत्र निरस्त करने की रिपोर्ट प्रमुख सचिव संसदीय कार्य विभाग मध्यप्रदेश शासन को भेजी गई है। हांलाकि जाति प्रमाण पत्र निरस्त होने के बाद अभी श्रीमति ज्योति धुर्वे के खिलाफ होने वाली वैधानिक कार्यवाही में मार्गदर्शन का पेंच फंस गया है। पुलिस अधीक्षक कार्तिकेयन के. के मुताबिक उक्त मामले में वैधानिक कार्यवाही के लिए कलेक्टर ने उच्च अधिकारियों को पत्र लिखकर मार्गदर्शन मांगा है। पुलिस अधीक्षक के मुताबिक कमिश्रर ट्रायवल से लिखित आदेश मिलने के बाद इस मामले में कार्यवाही की जायेगी।
कलेक्टर-एसपी को दिये थे कार्यवाही के निर्देश
सांसद श्रीमति ज्योति धुर्वे के संदिग्ध जाति प्रमाण पत्र मामले में हाईपावर कमेटी द्वारा 1 अपै्रल 2017 को श्रीमति धुर्वे के गोंड अनुसूचित जनजाति के जाति प्रमाण पत्र को निरस्त कर राजसात करने एवं विधि अनुरूप कार्यवाही करने के लिए गये निर्णय पर सांसद ज्योति धुर्वे ने हाईपावर कमेटी के समक्ष पुर्नविलोकन याचिका दायर की थी। पुर्नविलोकन याचिका पर हाईपावर कमेटी द्वारा 6 फरवरी 2019 को लिये निर्णय में श्रीमति ज्योति धुर्वे को ”पवॉर/बिसेनÓÓ जाति का होना पाये जाने पर कमेटी द्वारा 1 अपै्रल 2017 को लिए निर्णय को यथावत मान्य किया था।
उल्लेखनीय है कि हाईपावर कमेटी द्वारा 6 फरवरी 2019 को पारित आदेश के तहत आयुक्त जन जातीय कार्य विभाग मप्र ने 7 फरवरी 2019 को कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक बैतूल को पत्र भेजकर श्रीमति ज्योति धुर्वे के जाति प्रमाण पत्र की जांच के संबंध में छानबीन समिति द्वारा पारित निर्णय पर कार्यवाही करने के निर्दश दिये थे।
16 वर्ष पूर्व जारी जाति प्रमाण पत्र को किया निरस्त
उच्चस्तरीय छानबीन समिति के निर्णय पर कार्यवाही करने के लिए बैतूल कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के परिपालन में भैंसदेही अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) राकेश मरकाम ने 16 वर्ष  पूर्व जारी श्रीमति ज्योति धुर्वे के  अनुसूचित जनजाति के जाति प्रमाण पत्र को 8 फरवरी 2019 को निरस्त कर दिया।
उल्लेखनीय है कि कार्यलय अनुविभागीय अधिकारी (प्रमाणीकरण) भैंसदेही जिला बैतूल के प्रकण क्रमांक/152/बी-121/2002-03 दिनांक 31/10/2002  से श्रीमति ज्योति धुर्वे को गोंड अनुसूचित जन जाति का जाति प्रमाण पत्र जारी किया गया था। लेकिन उच्चस्तरीय छानबीन समिति द्वारा श्रीमति ज्योति धुर्वे को ”बिसेन/ पवॉरÓÓ जाति का होना पाये जाने पर श्रीमति धुर्वे के गोंड अनुसूचित जन जाति के जाति प्रमाण पत्र को निरस्त कर राजसात करने एवं विधि अनुरूप कार्यवाही किये जाने का निर्णय लिया था। हाईपावर कमेटी के निर्णय के परिपालन में अनुविभागीय अधिकारी(राजस्व) भैंसदेही द्वारा 31 अक्टूबर 2002 को जारी श्रीमति ज्योति धुर्वे के अनुुसूचित जनजाति के प्रमाण पत्र को निरस्त कर दिया है।
अजजा कोटे से आयोग की अध्यक्ष सहित दो बार बनी सांसद
अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) भैंसदेही द्वारा 31 अक्टूबर 2002 को जारी किये गये गोंड अनुसूचित जनजाति के जाति प्रमाण पत्र  के आधार पर श्रीमति ज्योति धुर्वे मप्र अनुसूचित जनजाति आयोग की अध्यक्ष सहित दो बार सांसद रह चुकी है।
परिसीमन के  बाद बैूतल-हरदा का स्वरूप बदलकर बैतूल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेत्र होने के साथ अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित हो गया था। परिसीमन के बाद अजजा वर्ग के लिए आरक्षित बैतूल-हरदा-हरसूद संसदीय क्षेेत्र से 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने ज्योति धुर्वे को उम्मीदवार बनाया था। तब लोकसभा चुनाव जीतकर श्रीमति धुर्वे 14 वीं लोकसभा में संासद बनी थी। इसके बाद 15 वीं लोकसभा के लिए 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा नें लगातार दूसरी बार श्रीमति धुर्वेे को उम्मीदवार बनाया था। तब तीन लाख 28 हजार मतों से चुनाव जीतकर श्रीमति ज्योति धुर्वे लगातार दूसरी बार सांसद चुनी गई।
अनुसूचित जनजाति वर्ग की न होकर ”पवॉर/बिसेनÓÓ जाति से ताल्लुक रखने वाली श्रीमति धुर्वे का अजजा कोटे से मप्र अनुसूचित जनजाति आयोग का अध्यक्ष सहित सांसद जैसे संवैधानिक पदों पर रहना न केवल शासन के साथ धोखाधड़ी है बल्कि मतदाताओं के साथ बड़ा विश्वासघात है।
कमिश्रर से आदेश आने पर होगी कार्यवाही-एसपी
बैतूल। उच्चस्तरीय छानबीन समिति द्वारा सांसद श्रीमति ज्योति धुर्वेे के जाति प्रमाण पत्र की जांच के संबंध में पारित निर्णय पर कार्यवाहीं के संबंध में पुलिस अधीक्षक कार्तिकेयन के. ने बताया है कमिश्रर ट्रायवल से हमे लिखित आदेश आयेगा उसके बाद इस मामले में कार्यवाही की जायेगी।
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उक्त मामले में वैधानिक कार्यवाही के लिए कलेक्टर ने  उच्च अधिकारियों को पत्र लिखकर मार्गदर्शन मांगा है।
 मयंक भार्गव, बैतूल

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *