युवा दिवस पर हुआ सामुहिक सूर्य नमस्कार, जिले में 87 हजार से अधिक ने किया सामुहिक सूर्य नमस्कार

 

आशुतोष पुरोहित

खरगोन १२ ;अभी तक;  प्रदेश में प्रत्येक वर्ष स्वामी विवेकानंदजी का जन्मदिवस 12जनवरी को युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। युवा दिवस के रूप में प्रत्येक माध्यमिक विद्यालय, हाईस्कूल, हायर सकेंडरी स्कूल व महाविद्यालयों में सामुहिक सूर्य नमस्कार किया जाता है। जिला शिक्षा अधिकारी श्री केके डोंगरे ने जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार को जिले में 87786 विद्यार्थी, शासकीय सेवक और गणमान्य नागरिकों ने सामुहिक रूप से सूर्य नमस्कार किया। उत्कृष्ट विद्यालय के मैदान पर जिला स्तरीय कार्यक्रम में1500 से अधिक स्कूली बच्चों और 500 से अधिक शासकीय सेवकों ने सूर्य नमस्कार किया। सूर्य नमस्कार से पूर्व रेडियों प्रसारण के माध्यम से मैदान पर मौजूद सभी ने राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् और राष्ट्रगान का गायन किया। रेडियों के माध्यम से 1893 में शिकागों में हुई धर्मसभा में स्वामी विवेकानंद के संबोधन को भी सुना। इसके पश्चात प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने रेडियों के माध्यम से सभी को युवा दिवस का शुभकामना संदेश दिया। जिला स्तरीय कार्यक्रम में कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड भी सामुहिक सूर्य नमस्कार में सभी 12 क्रियाएं पूर्ण की। इसके पश्चात उन्होंने पूरे जिलेवासियों को युवा दिवस की शुभकामनाएं भी दी।

3-3 चरणों में सूर्य नमस्कार और प्राणायाम किया गया

शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित सामुहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में स्कूली बच्चों, शासकीय सेवकों, जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने सहभागिता की। कार्यक्रम में योग शिक्षकों और रेडियों के माध्यम से प्रसारित निर्देशों के आधार पर सहभागिता करने वालों ने 3-3चरणों में सूर्य नमस्कार और प्राणायाम किया। सूर्य नमस्कार में प्रार्थना की मुद्रा, हस्त उत्तानासन, पाद हस्ताश्न, अश्व संचालन, पर्वतासन, अष्टांगनमस्कार, भुजंगासन और प्राणायाम की क्रियाएं की गई।

मानव जीवन में सूर्य नमस्कार का महत्वपूर्ण योगदान

मानव शरीर के लिए सूर्य नमस्कार प्राचीन समय से बहुत महत्वपूर्ण माना जाता रहा है। इसे तन, मन और वाणी से की गई सूर्योंपासना भी माना गया है। इसमें सूर्य किरणों से मिलने वाले विटमिन“डी” की प्राप्ति होती है। सूर्य नमस्कार से शरीर के सभी जोड़ों व मांसपेशियों को ढिला करने तथा आंतरिक अंगों की मालिश करने का एक सरल व प्रभावशाली अभ्यास है। सूर्य नमस्कार कुल 12स्थितियों से मिलकर बना है।

हृदय गति के लिए अच्छा है प्राणायाम

युवा दिवस के अवसर पर आयोजित सूर्य नमस्कार में प्राणायाम भी कराया गया। प्राणायाम से हृदय गति सामान्य होती है। फेफड़ों से संबंधित रोग भी ठीक होते है। सूर्य नमस्कार में अनुलोम-विलोम, भस्त्रिका और भ्रामरी प्राणायाम भी किए गए। उत्कृष्ट मैदान पर हुए सामुहिक सूर्य नमस्कार में जिला पंचायत सीईओ श्री सतीष कुमार, अपर कलेक्टर श्री एमएल कनेल, एएसपी श्री शशिकांत कनकने, शिक्षा विभाग के संयुक्त संचालक श्री मनीष वर्मा, एसडीएम श्री अभिषेक गेहलोत, डिप्टी कलेक्टर श्री त्रिलोकचंद गौड़, नपा अध्यक्ष श्री विपिन गौर सहित समस्त खरगोन के जिलाधिकारी उपस्थित रहे।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *