किसानों के फसल ऋण खाते के आधारकार्ड सीडिंग का कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश

दीपक कांकर
रायसेन, 11 जनवरी ;अभी तक;  जिला कार्यालय के सभाकक्ष में मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना के क्रियान्वयन के संबंध में कलेक्टर श्रीमती एस प्रिया मिश्रा की अध्यक्षता में बैंकर्स की बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्रीमती एस प्रिया मिश्रा ने बैंकर्स को जिले में मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना से लाभांवित किसानों के फसल ऋण खाते के आधारकार्ड सीडिंग का कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए।
                       कलेक्टर श्रीमती एस प्रिया मिश्रा ने बैठक में कहा कि बैंक शाखाओं में आधार सीडिंग कार्य के संबंध में आवश्यक जानकारी सूचना पटल पर प्रदर्शित की जाए ताकि किसानों को किसी प्रकार की कठिनाई न हो। उन्होंने कहा कि इस कार्य को सुव्यवस्थित रूप से करने के लिए प्रत्येक बैंक शाखा तथा समिति के लिए ग्रामवार दिवस निर्धारित कर लें। उन्होंने बताया कि आधार सीडिंग के लिए बैंक शाखा तथा समिति में किसानों को गाईड करने के लिए शासकीय सेवक की ड्यूटी भी लगाई जाएगी। उन्होंने आधार सीडिंग कार्य का प्रतिदिन अभिप्रमाणन करने के भी निर्देश दिए। साथ ही शाखा में आने वाले किसानों की योजना से जुड़ी कोई समस्या या शंका होने पर उसका समाधान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने प्रत्येक बैंक शाखा तथा समिति में आधार सीडेड फसल ऋण खातों के लिए संभावित पात्र किसानों को हरी सूची एवं गैर आधार सीडेड किसानों की सफेद सूची पोर्टल से प्राप्त कर चस्पा करने के निर्देश दिए।
                     उन्होंने कहा कि 15 जनवरी से किसानों से ऋण माफी के लिए आवेदन लिए जाएंगे। इसके लिए पंचायत स्तर पर नोडल अधिकारी की नियुक्ति की जाएगी, जिसके द्वारा आवेदन लेने के पश्चात किसान को पावती भी दी जाएगी। नगरीय निकायों में भी आवेदन पत्र प्राप्त करने की व्यवस्था की जाएगी ताकि नगरीय क्षेत्र में कृषि भूमिधारी ऋणी किसान नगरीय निकाय में आवेदन जमा कर सके। उन्होंने कहा कि 22 फरवरी से किसानों की कर्जमाफी की कार्यवाही प्रारंभ होने के साथ ही ऋण माफी प्रमाण पत्र भी वितरित किए जाएंगे। ग्राम पंचायतों में 26 जनवरी को होने वाली ग्राम सभाओं में आवेदक किसानों की सूची का वाचन किया जाएगा। बैठक में एलडीएम सहित सभी बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।
तीन रंग के होंगे आवेदन पत्र
                     मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना में किसानों को पात्रतानुसार हरे, सफेद और गुलाबी रंग के आवेदन पत्र संबंधित ग्राम पंचायत कार्यालय में प्रस्तुत करने होंगे। शासन से जारी नियमानुसार ऋणी कृषकों की सूची प्रकाशन के बाद आधार सीडेड सूची (हरी सूची) के किसानों को हरे रंग के आवेदन पत्र तथा गैर-आधार सीडेड सूची (सफेद सूची) के किसानों का सफेद रंग के आवेदन पत्र जमा करने होंगे। हरी अथवा सफेद सूची में दर्शित जानकारी पर आपत्ति अथवा दावा प्रस्तुत करने का अधिकार किसान को दिया गया है। इसके लिये किसान को गुलाबी आवेदन करना होगा। गुलाबी आवेदन पत्र में भाग एक केवल उन किसानों को भरना होगा, जिनका नाम बैंक द्वारा प्रदर्शित सूची में दर्ज नहीं है। भाग दो केवल उन किसानों को भरना होगा, जिनके संबंध में बैंक द्वारा प्रदर्शित जानकारी त्रुटिपूर्ण है।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *