उप निर्वाचन अधिकारी रिकॉर्ड सहित तलब, आयोग्य व्यक्ति को चुनाव की रिकॉर्डिग को ठेका देना का आरोप 

सिद्धार्थ पाण्डेय
 जबलपुर ४ दिसम्बर ;अभी तक;  विधानसभा चुनाव के दौरान वीडियोग्राफी व फोटोग्राफी का ठेका आयोग्य व्यक्ति को दिये जाने के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। याचिका में लगाये गये आरोपों को गंभीरता से लेते हुए हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एस के सेठ व जस्टिस व्ही के शुक्ला की युगलपीठ ने उप निर्वाचन अधिकारी को रिकॉर्ड सहित तलब किया है। याचिका पर अगली सुनवाई 7 दिसम्बर को निर्धारित की गयी है।
                       श्री स्टूडियों के संचालक प्रकाश जायसवाल की तरफ से दायर की गयी याचिका में कहा गया है कि विधानसभा चुनाव में वीडियोग्राफी का ठेका अनावेदक जय मॉ स्टूडियों के संचालक मनीष चौबे को दिया गया है। याचिका में कहा गया है कि टेण्डर शर्तो के अनुसार आयोग्य होने के बावजूद भी उसे उपकृत्य करने के लिए उसे नियम को ताक में रखकर उक्त टेण्डर दिया गया है। अनावेदक ने आॅन लाईन आवेदन में खुद को जय मॉ स्टूडियों का संचालक बताया है,जबकि एमपी आॅन लाईन में उक्त स्टूडियो के मालिकों में एक नाम सोनम पांडे का है। जिनके पति सुदीप कुमार पांडे है और वह नेशनत इंफ्रमेंशन सेंटर में कार्यरत है।
                   अनावेदक ने आपने आवेदन में यह भी कहा है कि अनावेदक लोक सेवा केन्द्र संचालित करता है और जय मॉ स्टूडियो का विडियों व फोटोग्रामी के लिए रजिस्ट्रेशन तक नहीं है। अनावेदक स्टाम्प वेन्डर के साथ सर्विस प्रोवाईडर भी है। सर्विस प्रोवाईडर की सूची में उसना नाम सबसे आखरी में 31 नम्बर पर है। चुनाव आयोग की निर्धारत शर्तो के विपरित जाकर उसे चुनाव की वीडियोंग्राफी का टेंडर दिया गया है। इस संबंध में शिकातय दर्ज करवाने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई,जिसके कारण उक्त याचिका दायर की गयी है। याचिका की सुनवाई करते हुए युगलपीठ ने उक्त आदेश जारी किये है।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *