व्हीव्हीपेट की पर्चियों का मिलान कर होनी चाहिए वोटों की गिनती, हाईकोर्ट में याचिका दायर,गुरूवार को सुनवाई संभावित 

सिद्धार्थ पाण्डेय
 जबलपुर ४ दिसम्बर ;अभी तक;  व्हीव्हीपेट मनीश की पर्ची से मिलान कर वोट की गिनती किये जाने की मांग करते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी है। याचिका में कहा गया है कि एक तरफ चुनाव आयोग का कहना है कि ईव्हीएम व व्हीव्हीपेट मशीन को वायरलैस कनेक्शन से जोड़ नहीं जा सकता है। तो दूसरी तरफ चुनाव आयोग ने ईव्हीएम टेÑकिंग साफ्टवेयर मोबाइल एप कर उल्लेख करते हुए उससे ईव्हीएम तथा व्हीव्हीपेट मशीन को जोड़ने की बात कही है। याचिका में मांग की गयी है कि दोनो बाते परस्पर विरोधी है,इसलिए मतगणना के दौरान ईव्हीएम में पड़े वोट तथा व्हीव्हीपेट मशीन की पर्चिचों को मिलान किया जाये।
                  मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता अधिवक्ता अमिताभ गुप्ता की तरफ से दायर की गयी याचिका में कहा गया था कि मतदान के दौरान 1146 ईव्हीएम मशीत तथा 1545 व्हीव्हीपेट मशीन में खराबी आई थी,जिन्हें बदला गया था। मतदान केन्द्र में भेजने के पहले मशीनों की दो बार जांच की जाती है। इसके अलावा चुनाव कर्मचारी ईव्हीएम व व्हीव्हीपेट मशीन के साथ होटल में मिले। इतना ही नहीं मश्ीनों मतदाता की अवधि समाप्त होने के 48 घंटो बाद जमा हुई।
                   याचिका में कहा गया है कि केन्द्रीय चुनाव आयोग ने ईव्हीएम व व्हीव्हीपेड मशीन के संबंध में मैन्युल जारी किया गया है। जिसके कंडिका 19 में ईव्हीएम ट्रेकिंग साफ्टवेयर का उल्लेख किया गया है। इसके लिए उन्होने एक मोबाइल एप तैयार किया।  मुख्य चुनाव अधिकारी,जिला चुनाव अधिकारी तथा वेयरहाऊस इंचार्ज को माईबल एप उपयोग के लिए दिये गये है। इस एप के साथ ईव्हीएम मशीन तथा व्हीव्हीपेड को जोड़ा जा सकता है। कंडिका 23 में कहा गया है कि ईव्हीएम व व्हीव्हीपेड मशीन को वायरलैस कनेक्शन से जोड़ा नहीं जा सकता है। दोनो बाते परस्पर विपरित है। मतदाता ने जिसे मत दिया उस तक पहुॅचे यही लोकतंत्र है। वर्तमान व्यावस्था के अनुसार सिर्फ एक पोलिंग वूथ का का चयन कर ईव्हीएम मशीन के वोट तथा व्हीव्हीपेड मशीन की पर्ची का मिलाना किया जायेगा। याचिका में मांग की गयी है कि निष्पक्ष मतगणना के लिए सभी पोलिंग बूथ की ईव्हीएम मशीन के वोट तथा व्हीव्हीपेड की मशीन की पर्चियों का मिलान होना चाहिए।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *