अनुष्ठान आत्मा को जगाता है, वातावरण पवित्र करता है, सर्वतोभद्र महामंडल विधान के तीसरे दिन सुभूषणमति माताजी ने कहा

महावीर अग्रवाल
 मन्दसौर ४ दिसम्बर ;अभी तक; पार्श्वनाथ जिनालय बंडीजी के बाग में आज 4 दिसम्बर 2018 को सर्वतोभद्र महामंडल विधान का तीसरा दिन अत्यन्त ही शुभ क्रियाओं के साथ शुरू किया गया।श्
अनुष्ठान आत्मा को जगाता है, वातावरण पवित्र करता है, सर्वतोभद्र महामंडल विधान के तीसरे दिन सुभूषणमति माताजी ने कहा

अनुष्ठान आत्मा को जगाता है, वातावरण पवित्र करता है, सर्वतोभद्र महामंडल विधान के तीसरे दिन सुभूषणमति माताजी ने कहा

विधान सिर्फ क्रियाकांड नहीं बल्कि अनुष्ठान है। जो की श्रद्धाभाव से किया जाता है। उक्त उद्गार पूज्य श्री सुभूषणमति माताजी ने बंडीजी के बाग में चल रहे भव्य सर्वतोभद्र मंडल विधान के अवसर पर दिया। पूज्य माताजी ने बताया कि जो सम्यक भाव से संयम एवं एकाग्रता से किया जाता है उसका नाम अनुष्ठान है। अनुष्ठान आत्मा को जगाता है, वातावरण का ेपवित्र करता है। सर्वतोभद्र अर्थात संसार के समस्त जीवों का पशु-पक्षियों का सभी का कल्याण हो। श्रावकों द्वारा की जाने वाली भक्ति, श्रद्धा कम नहीं होना चाहिए। चाहे सामग्री कम हो पर समर्पण कम नहीं होना चाहिये।

                      हूमड़ समाज अध्यक्ष दीपक भूता ने बताया कि आज के चक्रवर्ती राजा का सौभाग्य विजयेन्द्रकुमार सेठी परिवार ने प्राप्त किया एवं मांडलिक राजा महेन्द्रकुमार प्रदीप गांधी सलंबूर वाले बने। आज के चित्र अनावरण दीप प्रज्जवलन, पूज्य माताजी का पाद प्रक्षालन, शास्त्र भेंट एवं देवशास्त्र गुरू की आरती का लाभ अंजली दीदी खतौली वालों में प्राप्त किया। मंडल उद्घाटनकर्ता निर्मल मेहता सहित समस्त इन्द्र-इन्द्राणी एवं श्रावकगण ने पूजन विधान में अर्ध्य समर्पित कर पुण्यार्जन किया। विधान में बाहर से पधारे कई श्रद्धालुजनों ने भाग लेकर पुण्यार्जन किया।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *