State

विवाद  से सुर्खियों में रहने वाले विजय शाह ने अब चुनाव के अपने प्रतिद्वंदी  प्रत्याशी पर चुटकी ली

मयंक शर्मा
 खंडवा ३ दिसम्बर ;अभी तक;  अपनी बेबाकी, मजाकिया मिजाज या विवाद  से सुर्खियों में रहने वाले हरसूद विस  क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी व काबीना  मंत्री विजय शाह ने अब चुनाव के अपने प्रतिद्वंदी  प्रत्याशी पर चुटकी ली है। कांग्रेस प्रत्याशी सुखराम सालवे ने े पीसीसी से पूरा फंड नहीं  मिलने का तथाकथित
बयान मीडिया को देकर अखबारी सुर्खियां बटोरी । सुखराम साल्वे  की दुख भरी हालत को लेकर मंत्रीजी ने कहा सुखराम ने हमारी पार्टी में 15 साल तक  काम किया है। इस नाते वे मेरे मित्र है। वे आवेदन देंगे तो फंड कहां, कितना और कैसे  गया इसकी निश्चित जांच कराएंगे।
                     उल्लेखनीय है कि कांग्रेस प्रत्याशी साल्वे, चुनाव के  कुछ दिन पहले कांग्रेस में  शामिल हुए ओर पार्टी ने  उन्हें उम्म्ीदवार घोषित कर दिया।
श्री शाह ने साल्वे को लेकर  कहा कि कहा कि पानी में लकड़ी मारो तो पानी अलग नहीं हो जाता। वे अब भी नके  अभिन्न है। उन्होने आगे कहा कि श्री
साल्वे ने कांग्रेस से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर  की, टिकट भी मिल गया। चुनाव में पीसीसी से पूरा फंड नहीं मिलना से  वे क्षुब्ध है।  उन्होंने कहा सुखराम कांग्रेसी बाद में है पहले वे मेरे निर्वाचन क्षेत्र के आदिवासी साथी है।  अगली हमारी भाजपा सरकार बनने पर 12 दिसम्बर को कांग्रेस प्रत्याशी अगर आवेदन देंगा  तो पता लगाने की कोशिश करेगें कि आखिर रूपये किसकी जेब में गये  या कौन डकार  गया।
0 जितना कहा उतना तो देना था
                    कांग्रेस की कथनी और करनी पर कटाक्ष करते हुए श्री शाह ने कहा चुनाव में हार-जीत अलग बात है।  कांग्रेस आलाकमान ने अपने प्रत्याशी को  जो बडा फंड देने का  कहा उतना तो देना था उसे 20 लाख रुपए ही दिए। यह प्रत्याशी के साथ आर्थिक धोखाधड़ी  है।
0 वे  पलटे,कहा-ऐसा कुछ नहीं कहा-
                   पीसीसी से चुनाव में बडडी रकम की लूटपाट होने की कथित अपने ही बयान से श्री सुखराम साल्वे  पलटी मार  गए है। उन्होंने एक विज्ञप्ति जारी कर कांग्रेस नेताओं व  पीसीसी का गुणगान करते हुए कहा मैंने फंड मामले में ऐसा कुछ नहीं कहा।सुखराम भले  ही बयान से पलट गए हो लेकिन मीडिया के पास उनके बयान का वीडियो सुरक्षित है।

About the Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *