समाज सेवी संस्थाए चाय बैचकर माॅ व स्वंय का भरण-पोषण करने वाले बालक के सहायता हेतु आगे आई

रवि शर्मा

भिण्ड में एच.आई.वी ग्रसित 45 वर्षीय माॅ आजीविका के लिये संघंर्ष कर रहे 10 वर्षीय मासूम बेटे के लिये शासन प्रशासन को जन सुनवाई के दौरान आवेदन देते देते दो वर्ष से ज्यादा बीत गये और शासन प्रशासन ने इस ओर ध्यान नही ही नहीं दिया। विगत दिवस इस खबर को समाचार पत्रों ने महिला की परेशानी व 10 वर्षीय बालक जो चाय बैचकर आजीविका चला रहा था।

भिण्ड की सामाजिक संस्थाओं ने इस ओर प्रकाशित समाचार पढ़कर तत्काल कार्यवही करते हुऐ मासूम बेटे एवं एच.आई.वी. ग्रसित महिला के भरण-पोषण के लिये मात्र 10-12 घण्टे में एक दुकान खुलवाकर पीढ़ित गरीब के लिये एक दुकान संचालित करा दी। ताकि बालक व उसकी माॅ दोनो समय का भोजन व स्वंय का भरण-पोषण कर सकें। पूर्व में 10 वर्षीय बालक चाय बैचकर 30-40 रूपये कमाकर माॅ व स्वंय का भरण-पोषण करता था समाचार प्रकाशित होने पर समाज सेवी संस्था आगे आई और अब तीन चार और संस्थाऐं मदद करने के लिये तैयार है परन्तु जिला प्रशासन नेता और राजनीतिज्ञ आठ-दस बार कलेक्टर को आवेदन देकर, जनसुनवाई में जाकार दो वर्षो तक परेशान रही महिला का स्थानीय संस्थाओं ने तत्काल निर्णय लेकर पुण्य का काम कर डाला। परन्तु प्रशासन अभी भी आॅख बंद किये हुऐ बैठा है

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *