ज्योंतिल्रिग नगरी ओंकारेश्वर के विकास के लिए 156 करोड़ रू. की योजना को मिली मंजूरी

मयंक शर्मा

खण्डवा ५ दिसंबर ;अभी तक;   मुख्यमंत्री  कमलनाथ ने गुरूवार को मंत्रालय में महाकालेश्वर मंदिर परिसर की 300 करोड़ की विकास योजना की तर्ज पर अब ओंकारेश्वर मंदिर की 156 करोड़ की विकास योजना को भी मंजूरी दी है। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने मंदिर संचालन के लिए एक्ट बनाने के लिए भी कहा है। श्री नाथ ने यह निर्णय ओंकारेश्वर के विकास के संबंध में तैयार योजना की समीक्षा बैठक में लिए।

बैठक में आध्यात्म एवं जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा, खंडवा के प्रभारी एवं लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री  तुलसी सिलावट, गृह मंत्री  बाला बच्चन तथा किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री  सचिन यादव, मुख्य सचिव  एस.आर. मोहंती, अपर मुख्य सचिव आध्यात्म  मनोज श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वित्त  अनुराग जैन, प्रमुख सचिव लोक निर्माण  मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव संस्कृति ी पंकज राग, प्रमुख सचिव नगरीय विकास  संजय दुबे, आयुक्त इन्दौर संभाग आकाश त्रिपाठी एवं कलेक्टर खंडवा श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश को यह गौरव हासिल है जहाँ 12 ज्योतिर्लिंग में से दो ज्योतिर्लिंग स्थित हैं। प्रदेष में उज्जैन के महाकालेष्वर के बाद दूसरा ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर में स्थित है। यह स्थल विश्व पर्यटन केन्द्र के रूप में स्थापित हो यह हमारा लक्ष्य होना चाहिए। उन्होंने ओंकारेश्वर विकास योजना को पूरा करने के लिए समय निर्धारित करने को कहा । हर विकास कार्य पूरा करने की तारीख तय हो। मुख्यमंत्री ने मंदिर एक्ट भी शीघ्र तैयार करने को कहा । उन्होंने कहा कि हमारी मंशा है कि अगले शीतकालीन सत्र में यह एक्ट पेश किया जा सके। मुख्यमंत्री ने योजना के शिलान्यास के लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाने के निर्देश दिए। यह कमेटी विकास कार्य की प्रगति पर निगरानी रखेगी।
0 ओंकारेश्वर विकास योजना

ऊँकार सर्किट योजना के अंतर्गत महाकाल-महेश्वर के साथ ओंकारेश्वर विकास की योजना मुख्यमंत्री के निर्देश पर तैयार की गई है। लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसी सिलावट ने निरंतर योजना बनाने के संबंध में बैठक और इसे अंतिम रूप दिया। आज मंत्रालय में यह योजना मुख्यमंत्री के सामने प्रस्तुत की गई। योजना में विकास का एक विस्तृत विवरण तैयार किया गया है। इसमें ओंकारेश्वर के प्रवेश द्वार को भव्य बनाना, मंदिर का संरक्षण, प्रसाद काउंटर, मंदिर के चारों और विकास और सौंदर्यीकरण, शॉपिंग काम्प्लेक्स, झूलापुल और विषरंजन कुंड के पास रिटेनिंग वॉल, बहुमंजिला पार्किंग, पहुँच मार्ग परिक्रमा पथ का सौंदर्यीकरण, शेड निर्माण, लेंडस्केपिंग, धार्मिक, पौराणिक गाथा पुस्तकों की लायब्रेरी, ओंकार आइसलैंड का विकास, गौमुख घाट पुनर्निर्माण, भक्त निवास और भोजनशाला, ओल्ड पैलेस, विष्णु मंदिर, ब्रम्हा मंदिर, चंद्रेश्वर मंदिर का जीर्णाेद्धार, ई-साइकिल, ई-रिक्शा सुविधा, बोटिंग, आवागमन, बस स्टेंड, पर्यटक सुविधा केन्द्र सहित अन्य विकास कार्य शामिल हैं।

0 इंदौर-खण्डवा मार्ग की रिपेयरिंग पर भी हुई चर्चा

बैठक में प्रभारी मंत्री श्री सिलावट के अनुरोध पर मुख्यमंत्री  कमलनाथ ने खण्डवा शहर के बायपास के लिए भी स्वीकृति दी है। मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने खण्डवा शहर की नर्मदा पेयजल योजना में अनियमितताओं के लिए दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देष भी दिए। उन्होंने खण्डवा शहर की आंतरिक सड़कों की रिपेयरिंग कराने तथा मध्यप्रदेष सड़क विकास निगम के अधिकारियों को इंदौर-खण्डवा मार्ग की रिपेयरिंग का कार्य प्राथमिकता से कराने के निर्देष भी दिए।
उल्लेखनीय है कि खण्डवा जिले के प्रभारी मंत्री श्री तुलसी सिलावट की पहल पर ओंकारेष्वर के विकास कार्याे की विस्तृत कार्य योजना तैयार की गई थी। प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने गत 28 अगस्त को ओंकारेष्वर में बैठक लेकर वहां के विकास कार्याे की तैयार कार्य योजना की समीक्षा की थी। इसके बाद गत 19 नवम्बर को भी खण्डवा में आयोजित समीक्षा बैठक में भी प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने ओंकारेष्वर विकास योजना पर विस्तार से चर्चा की थी।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *