दादाजी धाम का निर्माण होना चाहिये ;वेदांती महाराज

मयंक शर्मा

खंडवा ४ दिसंबर ;अभी तक;  दो दिवसीय प्रवास पर आए वेदांती महाराज बुधवार को दिल्ली रवाना होने के पूर्व उन्होने दोहराया कि दााजी धाम का निर्माण होना चाहिये।  रामजन्म भूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद धर्म मर्मज्ञ संत डा. रामविलास वेदांती महाराज अयोध्या खेड़ीघाट में आयोजित श्री विष्णुमहारापुराण कथा में शामिल होने खंडवा पहुंचे थे।  पूर्व विधायक स्व. हुकुमचंद यादव के पुत्र त्रिलोक यादव के निवास पर उन्होंने सामाजिक बंधुओं के साथ पत्रकारों से भी चर्चा कर न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के फैसले को लेकर खुशी जाहिर की थी। वेदांती महाराज ने कहा कि न्यायालय के फैसले के पश्चात अब सरकार को चाहिए कि तुरंत मंदिर निर्माण समिति बनाकर अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू करें।
उन्होने ी खंडवा के दादाजी धाम मंदिर के लिए भी कहा कि भक्तगण यदि दादाजी मंदिर निर्माण के लिए कोई सामग्री देते हैं तो उसे स्वीकार करते हुए ट्रस्ट मंडल ने दादाजी मंदिर का भव्य निर्माण करना चाहिए। वेदांती महाराज ने यहां हरिहर भवन में रखे 84 खंभों के मार्बल से बनने वाले मंदिर के मॉडल को देखा। मंदिर निर्माण को लेकर उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार को धूनीवाले दादाजी मंदिर का अधिगृहण कर लेना चाहिए। इसके बाद एक कमेटी या नया ट्रस्ट बनाकर भव्य मंदिर का निर्माण किया जाना चाहिए। यहां रखे 92 ट्रक तराशे हुए मार्बल का मंदिर निर्माण में उपयोग किया जाना चाहिए।

वेदांती महाराज ने कहा कि वे मंदिर निर्माण को लेकर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह एवं मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी बात कर दादाजी मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेंगे। बुधवार को खेड़ीघाट से विदाई लेकर खंडवा पहुंचे वेदांती ने कहा मैं जब भी इस मार्ग से गुजरता हूं श्री धूनीवाले दादाजी आश्रम में दर्शन करने जरूर आता हूं। वे बोले कि जैसे अयोध्या में श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण होने जा रहा है, वैसे ही श्रीदादाजी का भी भव्य मंदिर बनना चाहिए। यहां मार्बल से मंदिर बनेगा तो हजारों साल चलेगा। विदित हो कि यहां ट्रस्ट द्वारा 108 खंभों के लाल पत्थर के मंदिर का निर्माण किया जा रहा था लेकिन एसडीएम न्यायालय के स्थगन आदेश के बाद निर्माण रोक दिया गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ मंदिर निर्माण को लेकर होने वाली बैठक चार बार स्थगित हो गई है।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *