लाश के शरीर से चैन चुरानें वाले संत रिचर्ड पांपूरी होस्पीटल के वार्ड बाय को पुलिस नें किया गिरफ्तार…

मयंक शर्मा

खण्डवा ४ दिसंबर ;अभी तक; -चंद रुपयों के लिए मानवता को शर्मसार कर देने वाले मामले आज बुधवार को सामने आया हे।  मामला मध्यप्रदेश के खंडवा के पदम नगर थाना क्षेत्र से सामने आया है। जहां एक और  मृतक के परिजन  गम में डूब रो रहे थे वहीं दूसरी और निजि क्षेत्र के अस्पताल में काम करने वाले एक वार्ड बॉय ने लाश से ₹80000 की चैन उडाने के खातिर मानवता को शर्मसार कर दिया ।  अस्पताल में कार्यरत कर्मचारियों को भगवान का रूप माना जाता है लेकिन आज अस्पतालों में शैतान भी मौजूद है, इस बात को पकड़े गए युवक ने साबित कर दिया है ।

30 नवंबर को उपेंद्र कुमार दुबे पिता पूनम चंद दुबे निवासी वैकुंठ नगर में पदम नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई कि 29 नवम्बर को लगभग 10.30 बजे उनकी पत्नी निधि दुबे की अचानक तबीयत खराब होने से उन्हें सेंट रिचर्ड पामपुरी हॉस्पिटल इंदौर रोड में भर्ती कराया गया था। कुछ समय बाद इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई थी। मृत्यु के उपरांत अस्पताल के स्टाफ ने निधि के हाथ में बंधी स्मार्ट वॉच परिजनों को दे दी थी। निधि को लेकर घर पहुंचे तो निधि के गले में पहनी हुई चेन नहीं मिलने पर अस्पताल प्रबंधन  से इस संबंध में पूछने पर उन्होंने चेन के संबंध में कोई जानकारी नहीं है कहकर पल्ला झाड लिया।  जिसके बाद उपेंद्र कुमार दुबे ने पदम नगर थाने में प्रकरण पंजीबद्ध कराया पदम नगर की टीम ने इस मामले में जांच शुरू की ।आरोपी शुभम पिता मिश्रीलाल निवासी सुरगांव जोशी को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से मृत निधी दूबे के गले से चुराई गई चैन बरामद कर उसे बंदी बनाकर  चोरी का प्रकरण पंजीबद्ध किया  है ।

थाना प्रभारी पुष्पेंद्र राठौड़ ने बताया कि संत रिचर्ड पांपूरी हॉस्पिटल में आरोपी   वार्ड बॉय के तौर पर कार्य करता है ।  निधि दुबे की मौत के बाद मौका लगते ही उसने उनके गले से चैन चुरा ली जो शुभम के पास से बरामद कर ली गई है ।  इस मामले में शुभम से पूछताछ की जा रही है कि उसमें हॉस्पिटल में नौकरी करने के दौरान इस तरह की और कितनी वारदात को अंजाम दिया है ।

इस मामले का खुलासा करने वालों में सब इंस्पेक्टर हिमाल सिंह डामोर,एसआई जॉन बारिया,अरविंद तोमर,अमित यादव का सराहनीय योगदान रहा। खंडवा एसपी डॉक्टर शिवदयाल सिंह गुर्जर में टीम की सराहना करते हुए उन्हें इनाम देने की घोषणा की है ।

खंडवा जिले में अस्पताल में लाश से चोरी करने का यह कोई पहला मामला नहीं है।इससे पहले भी एक निजी अस्पताल में खंडवा के ऑटोमोबाइल व्यापारी शशांक ठक्कर के गले से भी चैन चोरी का मामला खूब सुर्खियों में रहा था। इसके अलावा जिला सरकारी अस्पताल में भी इस तरह की चोरी की कई रिपोर्ट थानों में दर्ज कराई गई हैं । लोगों का जमीर व आत्मा मर चुकी है,इस तरह की घटनाओं से यह स्पष्ट सिद्ध होता है ।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *