डॉ. प्रियंका रेड्डी नृशंस हत्याकांड के विरोध में सरस्वती शिशु मन्दिर की छात्रो ने रखा मौन

सलिल राय
मंडला २ दिसंबर ;अभी तक;  मध्यप्रदेश के जनजाति बाहुल्यता के मण्डला में आज देशभर में एक बार मोमबत्ती जल उठी तो कहि मौन रखकर तो कहि केंडिल हाथो में जलाकर मातृ शक्ति के साथ दुष्कर्म करने वालों को सजाये मौत के स्वर उठ रहे हैं। शोसल मीडिया और अन्य समाचार माध्यम से डॉ प्रियंका रेड्डी के साथ घटित घटना ने एक फिर मानवता को शर्मसार करने वाले अपराधीयो को सिर्फ और सिर्फ फाँसी की सजा की मांग के समवेत स्वर देश प्रदेश में गूंज उठे हैं।

डॉ. प्रियंका रेड्डी नृशंस हत्याकांड के विरोध में सरस्वती शिशु मन्दिर की छात्रो ने रखा मौन

डॉ. प्रियंका रेड्डी नृशंस हत्याकांड के विरोध में सरस्वती शिशु मन्दिर की छात्रो ने रखा मौन

पिछडेपन और मुरझाई राजनीती से सरोकार रखने वाले मण्डला में मानवता को शर्मसार करने की घटना से लोग गुस्से में है जिले में घटना को लेकर आज सरस्वती शिशु मंदिर के छात्र परिवार ने मौन रख दुराचारीयो जल्द जे जल्द फाँसी की सजा देने की मांग करते शाला के प्रचार्य ने आज जारी विज्ञप्ति में जो कहा वह इस तरह है।

                  विगत दिवस हैदराबाद में डॉ. प्रियंका रेड्डी के साथ सामूहिक दुष्कर्म के पश्चात उन पर पेट्रोल डालकर जला देने वाले आरोपियों को फांसी दिये जाने की मांग को लेकर आज 2 दिस्म्बर को सरस्वती शिशु मन्दिर के प्राचार्य कमलेश अग्रहरि  उक्त संबंध में बताया कि तिलंगाना की राजधानी के निकट सादनगर कस्बे में पशु चिकित्सक डॉ. प्रियंका रेड्डी की रेप के बाद आग लगाकर नृशंस हत्या कर दी गई। उनका जला शव गुरूवार को सादनगर कस्बे के निकट चतनपल्ली पुल पर पाया गया। मीडिया एवं शोसल मीडिया  के माध्यम से मानवता को शर्मसार करने वाला जघन्य अपराध की जानकारी प्रसारित होते ही देश में आक्रोश का माहौल बन गया है और सभी ऐसे अमानवीय आरोपियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई कर अपराधियों को फांसी दी जाए जिससे महिलाओं के विरूद्ध अपराध करने वालो के मन में कानून का खौफ पैदा हो सके। कार्यक्रम के उपरांत छात्राओं ने मौन रखकर ड्रॉ प्रियंका के लिए आत्म शन्ति हेतू मौन रखा।

                       उक्त अवसर पर संस्था के कन्या भारती से अनीता दुवेदी, उर्मिला बैरगी ,प्रीती दुबे , राखी  तिवारी, प्रदीप गौप सँजय विस्व्कर्मा आदित्य तिवारी, तारेंद्र पांडेय,चन्द्र शेखर पाठक, मनसाराम पटेल ,सूनील तिवारी ,सतन्द्र श्रीवास्तव,जितेन्द्र गुप्ता ,निशांत कोस्टी रमा निवास दुबे आदी  समस्त आचार्य एवं दिदिया उपस्थित रही।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *