मुरैना में तांत्रिक ने छात्र को अगवा कर की नृशंस हत्या,परिजनों का आरोप नरबलि दी है

देवेश शर्मा

मुरैना  20 नवंबर ;अभी तक;  जिले के नगर थाना क्षेत्र के दौडरी गांव में रहने वाले 9वीं के छात्र को रविवार की रात अगवा कर हत्यारों ने उसकी नृशंस हत्या कर दी । हत्यारों ने  छात्र की एक आंख फोड़ी तथा कान भी काट डाला है। मृतक छात्र के परिजनों का आरोप है कि गांव के तांत्रिक ने उनके बच्चे की नर बलि चढ़ाई है , वहीं एसपी मुरैना डॉ असित यादव का कहना है कि हत्या फिरौती के लिए की गई है।
                      पुलिस अधीक्षक के अनुसार मृतक छात्र के परिजनों के संदेह पर गांव में रहने वाले एक तांत्रिक भीमसिंह जोशी  सहित उसके नाबालिग बेटे व मृतक के दो नाबालिक दोस्तों को हिरासत में लिया है । पुलिस सूत्रों के अनुसार डोंड़री गांव निवासी जितेन सिंह गुर्जर का इकलौता बेटा अंशुल गुर्जर, 14वर्ष  सेना में भर्ती के लिए रोज सुबह 4:00 बजे दौड़ लगाने जाता था। 17 नवंबर रविवार की सुबह 4:00 बजे अंशुल के मोबाइल पर कॉल आया कि उसे योगेंद्र सर  फौजी जो सेना में भर्ती की तैयारी कराते  है, दौड़ने के लिए बुला रहे हैं ।उन्होंने बताया कि काल आने के बाद अंशुल तड़के ही अपने घर से निकला और शाम तक घर नहीं लौटा सोमवार की दोपहर अंशुल के पिता ने थाने में गुमसुदी दर्ज कराई।
                   पुलिस के अनुसार गांव पहुंचकर जांच-पड़ताल की तब  छात्र का शव  गांव में रहने वाले तांत्रिक भीम सिंह जोशी के खेत के पास स्थित बाजरा करव के नीचे दबा मिला। हत्यारोंने उसकी एक आंख फोड़ दी थी तथा उसका एक काम भी कटा हुआ था। गले में साफी बधी हुई थी, इससे लगता है कि उसका गला घोट कर हत्या की गई है । मृतक छात्र के परिजनों का आरोप है कि तथा कथित तांत्रिक भीम सिंह जोशी 6 साल से गांव में बीजासन माता मंदिर पर तंत्र विद्या करता था । 4 महीने पहले ग्रामीणों ने उसे गांव से भगा दिया था, उसके बाद वह अपने खेत पर बने ट्यूबवेल पर रहता  था। अंशुल काशब  जिस पावर हाउस के पास मिला है वह भीम सिंह के खेत से सटा हुआ है ।इसलिए परिजनों को संदेह है अंकुर की नरबलि  दी गई है ।
                   वहीं पुलिस अधीक्षक असित यादव का कहना है उन्होंने पर परिजन के शक के आधार पर गांव में रहने वाले तांत्रिक सहित तीन नाबालिग लड़कों को हिरासत में लिया है ।तांत्रिक से पूछताछ की जा रही है ।पुलिस को शक है कि फिरौती के लिए छात्र को अगवा कर हत्या की गई है।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *