20 साल पहले फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी सास, बहू की शिकायत पर बर्खास्त

देवेश शर्मा
मुरैना( मप्र) 11 सितम्बर ;अभी तक; फर्जी मार्कशीट से 20 साल पहले शिक्षक की नौकरी हासिल करने वाली महिला प्रेमलता गोयल (सास) को उसकी ही बहू द्वारा कलेक्टर को जन सुनवाई  मैं की शिकायत के बाद पद से बर्खास्त कर दिया गया। बहू ने पारिवारिक कलह की वजह से कलेक्टर से शिकायत की थी। महिला शिक्षक ने नौकरी के वक्त जो मार्कशीट लगाई थीं, उसमें उम्र और नाम में गड़बड़ी पाई गई थी। कलेक्टर ने चार सितंबर19 को महिला शिक्षक प्रेमलता गोयल की बर्खास्तगी काआदेश जारी किया। प्रेमलता जरेरुआ शासकीय प्राइमरी स्कूल में पदस्थ थीं।
                   जिला शिक्षा अधिकारी सुभाष शर्मा ने बताया कि मुरैना की रहने वाली प्रेमलता की 1998 में अध्यापक के रूप में नियुक्ति हुई थी। उन पर आरोप था कि प्रेमलता ने अपनी मार्कशीट में उम्र और अन्य जानकारी से छेड़छाड़ की थी। उन्होंने बताया कि प्रेमलता गोयल के बेटे योगेश की कुछ सालों पहले सड़क हादसे में मौत हो गई थी। इसके बाद सास-ससुर और बहू के बीच झगड़े होने लगे।सास प्रेमलता से झगड़े के चलते उनकी बहू सरोज ने कलेक्टर को जन सुनवाई में सास द्वारा किये गये फर्जीवाड़े की शिकायत की थी। यह मामला कोर्ट तक पहुंच गया था ।
                 शिक्षा अधिकारी शर्मा ने बताया कि सरकारी नोकरी हांसिल करने के लिए शिक्षक प्रेमलता गोयल ने दो-दो मार्कशीट बनवाईं। पहली यूपी के आगरा की और दूसरी मध्य प्रदेश की। आगरा की मार्कशीट में उन्होंने अपनी जन्मतिथि 3 अगस्त 1964 बताई है, जबकि उनकी ही बेटी आरती के स्कूल प्रमाणपत्र में जन्मतिथि 15 जून 1976 है। यानी मां-बेटी की उम्र में महज 12 साल का अंतर है। शिक्षा अधिकारी के अनुसार, बहू ने ही जन सुनवाई में कई शिकायतें की थीं। जांच में फर्जीवाड़ा पकड़ में आया।

About the author /


Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *